Spiritual

महिलाओं को शनिदेव की पूजा करनी चाहिए या नहीं? जानें शनि पूजा के नियम

शनि देव पूजा: शनि को कर्म और न्याय का देवता माना जाता है। वे छोटी सी गलती पर तुरंत गुस्सा हो जाते हैं और सजा दे देते हैं। ऐसे में शनि की नाराजगी आप पर भारी पड़ सकती है। इसलिए शनिदेव की पूजा करते समय आपको बहुत सावधान रहना चाहिए।

शनिदेव की पूजा को लेकर जितने नियम हैं उतने ही लोगों के मन में सवाल भी रहते हैं। सवाल है कि महिलाओं को शनि की पूजा करनी चाहिए या नहीं?

आपको बता दें कि महिलाएं भी शनि की पूजा कर सकती हैं। हालांकि शनिदेव की पूजा के दौरान महिलाओं को विशेष सावधानी बरतने की जरूरत होती है। अगर महिलाएं शनिदेव की पूजा के दौरान इन नियमों का पालन नहीं करती हैं तो उन्हें शनिदेव की नाराजगी का सामना करना पड़ सकता है। मुझे नहीं पता कि महिलाओं के लिए शनिदेव की पूजा के क्या नियम हैं।

शनिदेव की पूजा करने के कई तरीके हैं

शनि मनुष्य के कर्मों पर दृष्टि रखता है, चाहे वह अच्छा हो या बुरा। यदि किसी महिला की कुंडली में शनि दोष या शनि महादशा है तो वह शनि की पूजा करके इसे दूर कर सकती है। हालांकि इस दौरान इस बात का विशेष ध्यान रखें कि महिलाएं पूजा के दौरान गलती से भी शनिदेव की मूर्ति को न छू लें। शास्त्रों के अनुसार, जब कोई महिला शनिदेव की मूर्ति को छूती है तो उस पर शनि की नकारात्मक ऊर्जा का असर होता है।

इसके अलावा महिलाओं को शनिदेव की मूर्ति पर तेल चढ़ाने की भी मनाही है। अगर आप शनिदेव को प्रसन्न करना चाहते हैं तो आप शनिदेव के मंदिर में सरसों के तेल की लालटेन जला सकते हैं। इसके अलावा शनिवार के दिन शनि से संबंधित वस्तुएं जैसे सोयाबीन तेल, काले कपड़े, काले जूते, लोहे के बर्तन, काली उरही दाल, काले तिल आदि का दान किया जा सकता है। इससे कुंडली में शनि दोष भी शांत होता है।

अस्वीकरण: यहां दी गई जानकारी केवल अनुमानों और तथ्यों पर आधारित है। यहां यह बताना जरूरी है कि Trendynews24 किसी भी मान्यता, सूचना की गारंटी नहीं देता है। किसी भी जानकारी या मान्यता को क्रियान्वित करने से पहले संबंधित विशेषज्ञों से परामर्श लें।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button